खूबसूरत बनाने वाले ब्यूटी प्रॉडक्ट्स दे सकते है कैंसर सहित कई बीमारियो को दस्तक!

Nandani Goswami
3 Min Read

खूबसूरत दिखने के चक्कर में लड़कियां सस्ते-महंगे कई तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट्स खरीद लेती हैं। क्या आपको पता है कि जिन ब्यूटी प्रॉडक्ट्स को आप खूबसूरत दिखने के लिए रोजाना इस्तेमाल करते हें उनसे आपको कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियां भी हो सकती हैं। कुछ लड़कियां तो मेकअप के बिना घर से बाहर ही नहीं निकलती लेकिन रोजाना वपराश किए जाने वाले ये प्रोडक्ट्स कैंसर, थायराइड समेत कई गंभीर बीमारियां का कारण बन सकते हैं।

हाल ही में दुनिया के सबसे सर्वोच्च मेकअप ब्रांड के ब्यूटी प्रोडक्ट्स में जहरीला फ्लोरीन केमिकल मिला है। अमेरिका व कनाडा में वपराश किए जा रहे मस्कारा, फाउंडेशन, नेल पेंट, लिप बाम, आईलाइनर, ब्लशर, लिपस्टिक की जांच की, जिसके आधे से ज्यादा नमूनों में खतरनाक केमिकल्स मिले। इसलिए हमें चाहिए कि हम कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल सावधानीपूर्वक और सीमित मात्रा में ही करें। बेहतर होगा कि हम प्राकृतिक तरीकों से अपनी सुंदरता बढ़ाने का ज्यादा से ज्यादा प्रयास करें।

आईलाइनर, ब्लशर, लिपस्टिक की जांच की, जिसके आधे से ज्यादा नमूनों में खतरनाक केमिकल्स मिले।

वैज्ञानिकों के कारण फ्लोरीन रसायन इतने गतिशील होते हैं कि शरीर में आसानी से घुस जाते हैं। वहीं, स्किन में भई यह केमिकल आसानी से अब्जॉर्ब हो जाता है। जो लड़कियां नियमित लिपस्टिक लगाती हैं वह कई पाउंड जहर खा चुकी हैं। लिपस्टिक, आई शैडो यहां तक कि पलकों को गहरा करने वाले मस्कारा में जहर मिला हो सकता है। हाल ही में हुए एक रिएलिटी चेक में कई कॉस्मेटिक्स में एक नया केमिकल फ्लोरीन पाया गया है।

हैरानी की बात ये हे कि किसी भी कॉस्मेटिक के लेबल पर फ्लोरीन की जानकारी नहीं दी जाती हैं शोध में ये भी देखा गया कि 88 प्रतिशत प्रो़डक्टस सही जानकारी नहीं देते। इसलिए सावधान आपको ही रहना हैं। ये स्टडी विदेश में की गई है लेकिन भारत में आपको सुरक्षित मेकअप का सामान मिल रहा होगा। इसकी गारंटी नहीं है क्योंकि कॉस्मेटिक्स के ऐसे आम तौर पर सामान विदेशों से ही प्रेरित होकर बनते हैं।

कॉस्मेटिक्स में एक नया केमिकल फ्लोरीन पाया गया है।

Paraben एक ऐसा केमिकल है, जिसे ज़्यादातर कॉस्मेटिक्स में बतौर Preservatives इस्तेमाल किया जाता है। मगर क्या आप जानते हैं कि शैंपू और बॉडी क्रीम्स में इस्तेमाल किए जाने वाला ये केमिकल कैंसर जैसी ख़तरनाक बीमारी की आधार बन सकता है। Parabens में बैक्टीरीयल और फ़ंगल इन्फ़ेक्शन रोकने की क्षमता होती हैं। इसे आपके प्रोडक्ट में इसीलिए मिक्स किया जाता हें ताकि वो लंबा चले। ऐसे में सवाल ये है कि आपको अपने product की उम्र अधिक प्यारी हें या फिर अपनी?

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *