प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लक्षद्वीप जाने के पीछे का खास मकसद

Nandani Goswami
2 Min Read

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लक्षद्वीप की यात्रा काफी चर्चा में रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लक्षद्वीप की हालिया यात्रा ने द्वीपसमूह और इसकी विशाल पर्यटन क्षमता को लेकर विश्व का ध्यान खींचा है। उन्होंने सोशल मीडिया पर लक्षद्वीप दौरे की तस्वीरें साझा की थीं। तबसे लगातार दूसरे दिन गूगल सर्च इंजन पर सबसे ज्यादा खोजे जाना वाला कीवर्ड लक्षद्वीप बना हुआ है। जिसमे कई कई लोगों ने पीएम मोदी की यात्रा को मालदीव के लिए बड़ा झटका बताया है।

लक्षद्वीप की खूबसूरती

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लक्षद्वीप की हालिया यात्रा ने द्वीपसमूह और इसकी विशाल टूरिज़्म क्षमता को लेकर विश्व का ध्यान खींचा है। और यह हम सभी के लिए एक बड़ी प्रेरणा है। उम्मीद है ज्यादा से ज्यादा पर्यटक लक्षद्वीप की समृद्धि में योगदान देंगे। वे इसकी अनूठी संस्कृति और परंपराओं का भी अनुभव करेंगे। और कहा कि आइए हम अपने महान राष्ट्र की सुंदरता और विविधता का प्रदर्शन करें।

महान राष्ट्र की सुंदरता और विविधता का प्रदर्शन करें।

पीएम नरेंद्र मोदी ने 2021 में कोविड महामारी के बाद लोगों से कश्मीर में ट्यूलिप गार्डन घूमने के लिए कहा था, तो वहां पर्यटकों प्रवेश के लिए जा रहे थें। इसके अलावा, पीएम मोदी से प्रेरित होकर लोग केदारनाथ, काशी विश्वनाथ, महाकाल जैसे मंदिरों में भी पहुंच रहे हैं। लक्षद्वीप से पीएम मोदी ने संदेश दिया कि यह सिर्फ एक द्वीप नहीं है, बल्कि परंपरा ओर खूबसूरती के मामले में भी यह काफी विशिष्ट है। वह इसे भी एक टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर विकसित करने की तरफ देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग भी एडवेंचर की तलाश में हैं, उनकी लिस्ट में लक्षद्वीप भी जरूर होना चाहिए। अब लक्षद्वीप को एक टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर डेवलप करके इसे मालदीव से अधिक श्रेय दिलाने का मकसद हें।

लक्षद्वीप को एक टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर डेवलप करके इसे मालदीव से अधिक श्रेय दिलाने का मकसद हें।

इंडियन ओशन में रणनीतिक रूप से स्थित मालदीव, भारत की क्षेत्रीय पहल जैसे ‘SAGAR’ सभी के लिए सुरक्षा, विकास और ‘नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी’ में एक प्रमुख देश बना हुआ है।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *